samacharvideo: भाजपा मे इन दिनों जश्न का माहौल है। हर तरफ से बीजेपी को जीत मिल रही है तो वहीं विरोधियों के भी मुंह बंद हो रहे है। वहीं भाजपा को 2014 का लोकसभा चुनाव जीते तीन साल भी हो गए है। जिसका जश्न पार्टी के नेता धुमधाम से मना रहे है। वहीं भारतीय जनता पार्टी के अथ्यक्ष कहीं और ही व्यस्त नजर आ रहे है।

दरअसल, अमित शाह 2019 मे होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर चिंतित हो रहे है। इसीलिए वे जश्न के बजाए काम मे जुट गए है। सुत्रों की माने तो अमित शाह ने 2019 के लोकसभा चुनाव पर फतह पाने के लिए ’95 दिवस फार्मुला’ तैयार किया है जिसके दम पर भारतीय जनता पार्टी 2019 मे फिर से केन्द्र मे सरकार बनायेगी।

अमित शाह की नजर अब देश के उन राज्यों पर आ टीकी है जहां पर भाजपा की सरकार नही है साथ ही जहां से 2014 के लोकसभा चुनाव मे भाजपा को निराशा के सिवा कुछ नही मिला था। इसके लिए अमित शाह इसी साल सितम्बर से पहले उन राज्यों का लगातार दौरा करेंगे जहां पर बीजेपी की पकड़ कमजोर है।

अमित शाह 95 दिनों तक राज्यों के दौरे के साथ कार्यकर्ताओं को भी मार्गदर्शित करेंगे, जिससे उन सभी राज्यों मे भाजपा को मजबुती मिल सकें जहां पर भाजपा अभी अपने पैरों पर खड़ी नही हो पाई है। अमित शाह की लिस्ट मे मुख्य रुप से केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, आंध्रप्रदेश और त्रिपुरा शामिल है।

इन राज्यों मे फतह के लिए अमित शाह ने जो प्लान तैयार किया है उसके हिसाब से अमित शाह की ओर से तीन तरह के ग्रुप बनाये गये हैं, जिसमे भाजपा की सरकार वाले राज्य, एनडीए की सरकार वाले राज्य और जहां विपक्षी दलों की सरकार है ऐसे राज्य। अमित शाह विपक्षी दलों की सरकार वाले राज्यों पर ज्यादा फोकस करेंगे तो वहीं भाजपा की सरकार वालें राज्यों मे कम समय देंगे।

गौरतलब है कि, अमित शाह राज्यों मे भाजपा की पकड़ बनाने के लिए कार्यकर्ताओं को गुर सिखायेंगे तो वहीं लोकल के नेताओ के साथ मिलकर राज्यों के लोगों मे भाजपा के प्रति उदार भाव उत्पन्न करने की कोशिशें भी करेंगे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *