samacharvideo:  कुछ दिनों से साड़ी मीडिया और राजनीति में एक नाम बहुत छाया हुआ है, और वह नाम है गुरमेहर कौर ! यह नाम मीडिया ही नही इंटरनेट पर भी लगातार छाया हुआ है। आप भी यही सोच रहे होंगे की आखिर कौन है यह गुरमेहर कौर, जिसकी चर्चा रातों रात पुरे देश में होने लगी, साथ ही पूरी राजनीति इस गुरमेहर कौर के नाम पर गरमा गई है। आखिर क्यों कई लोग इनके समर्थन में कैंपेन चला रहे है तो क्यों कई लोग इसका जमकर विरोध करने के साथ साथ इसे देशविरोधी करार दे रहे है ? तो आइये जानते है, कौन है गुरमेहर कौर …


यह भी पढ़े: सच आया सामने, कारगिल युद्ध में नही हुयी थी गुरमेहर के पिता की मौत, जानिये क्या है असली कहानी !

यह भी पढ़े: राष्ट्रपति का बड़ा बयान, ‘असहिष्णु भारतीयों के लिए भारत में कोई जगह नह !’

यह भी पढ़े: RSS नेता का कम्यूनिस्टो पर वार, कहा -‘क्या गोधरा भूल गए?’




गुरमेहर कौर दिल्ली के रामजस कॉलेज में पढ़ने वाली एक छात्रा है। वह अंग्रेजी साहित्य की पढ़ाई कर रही है। रामजस कॉलेज में एक कार्यक्रम आयोजित होने था, जिसमे JNU के चर्चित उमर खालिद, जिसे देशद्रोही करार दिया गया था, को बुलाया गया था। ABVP के विरोध के बाद यह कार्यक्रम रद्द हो गया। जिसके बाद  रामजस कॉलेज में दक्षिणपंथी और वामपंथी विचारधारा वाले छात्र गुटों के बीच हुई झड़प हुयी तो इसके बाद गुरमेहर कौर ने ABVP के खिलाफ एक मुहीम छेड़ी। गुरमेहर के अनुसार, उन्हें इस मुहीम के बाद धमकियां आने लगी। जिसकी भनक मीडिया को लगी और वो मीडिया में छा गयी। आपको बता दे की गुरमेहर कौर भी उस वामपंथी संगठन की सदस्य है, जिसका कार्यक्रम रामजस कॉलेज में होना था, जिसमे उमर खालिद को आमंत्रित किया गया था।



इस मुहीम के बाद गुरमेहर कौर के एक साल पहले के कुछ प्ले कार्ड्स के वीडियो में से एक फ़ोटो मीडिया में वायरल हो गयी। इस फ़ोटो पर लिखा था ‘मेरे पिता को पाकिस्तान ने नहीं मारा युद्ध ने मारा है।’

इसके साथ ही गुरमेहर कौर की एक वीडियो में दावा किया गया था कि उनके पिता की मौत कारगिल युद्ध में हुयी थी। इसके बाद इस मामले में मीडिया, राजनीति के साथ साथ क्रिकेट और बॉलीवुड के स्टार भी कूद गए। कुछ ने गुरमेहर का विरोध किया तो कुछ उसके समर्थन में आगे आये। वहीँ गुरमेहर के दावों पर भी सवाल खड़े किये गए, की उसके पिता की मौत कारगिल युद्ध में नही हुयी थी। 

खैर, इस मामले ने तेज़ी से तूल पकड़ लिया, सारी मीडिया और राजनीति में यह मामला पहले पायदान पर आ गया। मामला बढ़ने लगा तो खुद गुरमेहर कौर नइ खुद को इस कैंपेन से अलग कर लिया। 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *