samacharvideo: उत्तरप्रदेश के सबसे दमदार दल समाजवादी पार्टी में बाप और बेटे में लगातार झड़प मची हुई है। ये झड़प अब चुनाव चिन्ह सायकल को लेकर हो रही है। एक तरफ जहां मुलायम सिंह यादव सायकल पर अपना हक जता रहे है तो वहीँ दूसरी तरफ अखिलेश यादव खुद सायकल पर सवारी करने की आश लगाये बैठें है।

इस असमंजस को चुनाव आयोग आज साफ़ कर देगा कि, किसकी होगी सायकल और कौन हो जाएगा पैदल। दरअसल, चुनाव आयोग शुक्रवार को दल के दोनों पक्षों के दावों को सुनेगा और एक से दो दिन में साफ़ कर देगा की सायकल पर असली हक किसका है।

यदि दोनों पक्ष अपनी दावेदारी साबित नही कर पाते है तो चुनाव आयोग सायकल को दोनों से छुड़ा लेगा और दोनों को नए चुनाव चिन्ह प्रदान करेगा। इस नए चुनाव चिन्ह की तैयारी भी दोनों पक्षों ने कर ली है। मुलायम खेमे ने जहां नए चुनाव चिन्ह के लिए हल जोतता किसान चुन रखा है तो वहीँ अखिलेश यादव पहले मोटरसायकल पर ट्राय करेंगे और यदि नही हो पाया तो बरगद के पेड़ को आखिरी चिन्ह मान लेंगे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *