Ludo Supreme [CPR] IN

​samacharvideo: देश में जहां एक ओर महंगाई का दौर छाया हुआ है वहीँ दूसरी ओर एक राहत की खबर आ रही है। यह खबर पेट्रोल और डीजल के दामों से आ रहा है। आप भी सोच रहे होंगे की नोटबंदी के दौर में यह सब कैसे हो सकता है। तो आपको बता दे ये खबर झूठी नही है। यह सुन कर आप जरूर चौक सकते है। तो आइये आगे की खबर हम आपको बताते है।
यह भी पढ़े: राज्यसभा सांसद का खुलासा, ‘मोदी की रैली में इस तरह जुटती है भीड़’, जिसे सुन चौक उठेंगे आप !


यह भी पढ़े: मोदी के रोड शो और अखिलेश-राहुल की रैली के बाद सट्टा बाजार में जीत रही यह पार्टी !

देश की जनता हमेशा शुरू से ही पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर सतर्क रही है। पेट्रोल और डीजल के दामों में थोड़ी सी भी बढ़ोतरी या कमी पर हमेशा जनता का प्रभाव देखा जा सकता है। तो इस बारे में हम यही कहेंगे कि पेट्रोल डीजल उपभोक्ताओं के अच्छे दिन आने ही वाले है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक पेट्रोल डीजल के दाम कम होने वाले है। वह भी 1-2 रूपए नही 50-55 रूपए तक। चौक गये न ? ये बात सही है। पर इस कमी के लिए आपको थोड़ा इंतज़ार करना होगा। 


यह है कारण:
 

दरअसल वैकल्पिक ऊर्जा के कारण अंतराष्ट्रीय बाज़ार में पेट्रोल-डीजल के दाम औंधे मुंह गिरने वाले है। जिसका असर हमारे देश में पेट्रोल डीजल के दमन पर भी पड़ने वाला है। मार्केट विशेषज्ञों का कहना है कि पेट्रोल-डीजल के दामों में उठा-पठक 2020 तक रहेगी। इसके बाद पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार गिरेंगे। 2025 आते-आते भारत में पेट्रोल-डीजल के दाम 10 से 15 रुपये प्रति लीटर रह जायेंगे। 
गौरतलब है कि, अधिकांश ऑयल रिफाइनरियों के सामने बंदी का संकट होगा। सड़कों पर सोलर एनर्जी और हाइड्रो पॉवर और इलैक्ट्रिक व्हीकल्स होंगे। स्मार्ट बिल्डिंग्स सस्ती हाइड्रो पॉवर के चलते पेट्रोल-डीजल की मांग बहुत कम हो जायेगी। ऑयल इंडस्ट्रीज के विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि दुनिया में वैकल्पिक एनर्जी की क्रांति आने से सऊदी अरब समेत ओपेक देशों की आर्थिक स्थिति चरमरा जायेगी।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *