samacharvideo:  उत्तरप्रदेश में आखिरकार सत्ता में आने वाले दल का नाम सामने आ ही गया। भारतीय जनता पार्टी बहुमत के साथ सरकार बनाने के लिए तैयार है। वहीँ दूसरे दल जैसे कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बसपा को भाजपा ने मुह दिखाने लायक नही छोड़ा है। पर क्या आप जानते है, किस तरह से बीजेपी ने यूपी में यह चमत्कार कर दिखाया है ? नही, तो आइये हम आपको बताते वो पांच बड़े कारण, जिससे बीजेपी ने यूपी में फतह की…

1. मोदी लहर: लोकसभा चुनाव की तरह इस बार भी यूपी में मोदी लहर चल गई। विपक्ष कितना ही कहता रहा की, अब मोदी लहर नहीं चलेगी, पर हुआ बिलकुल इसके विपरीत। बीजेपी ने पूरा चुनाव मोदी के नाम और चेहरे के आधार पर लड़ा, जिसका फायदा आज साफ़ नज़र आ रहा है।


2. सपा-कांग्रेस गठबंधन:
समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने मोदी लहर को उत्तरप्रदेश में रोकने के लिए गठबंधन कोय था, पर उन पर ही उल्टा वार चल गया। दरअसल, समाजवादी पार्टी के कई नेता इस गठबंधन से खुश नही थे, साथ ही जानता को ये साथ पसंद नही आया जिसका फायदा सीधे तौर पर बीजेपी को मिला।


3. सपा का कलह:
समाजवादी पार्टी में चुनाव से कुछ दिन पहले तक कलह जारी रहा। मुलायम सिंह यादव को पार्टी से बहार निकालने से लेकर नजरअंदाज तक किया गया , जिससे मुलायम समथकों में भरी आक्रोश बन गया और इसका नुक्सान समाजवादी पार्टी को झेलना पड़ा।


4. ध्रुवीकरण:
भाजपा ने दो चरणों के बाद जब अपना ध्रुवीकरण का फार्मूला आजमाया तो यह बहुत काम आया। तीसरे चरण के पहले मोदी ने रैली से अखिलेश यादव और सपा को शमशान और कब्रिस्तान पर ऐसा घेरा की लोगों ने मान लिया कि सपा सरकार धर्म के आधार पर काम करती है।


5. पिछड़ी जातियों पर फोकस:
अमित शाह ने पिछली जातियों पर ध्यान दिया साथ ही इन पार्टियों से जुड़े दलों को अपने साथ किया, साथ ही दलितों, पिछड़े लोगों को यकीन दिलाया कि भाजपा सरकार ही उन्हें विकास की ओर ले जाएगी। बीजेपी की ओर से गैर यादव, गैर जाटव और गैर ब्राम्हण को अपने साथ लाने के लिए काम किया, जिसका फायदा आज up में बीजेपी को पूर्ण बहुमत के साथ मिल गया।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *