samacharvideo: राजनीति में हमेशा से ही नेताओं की छवि को लूटने वाला माना जाता रहा है। पर कभी-कभी ये तर्क झूठे साबित हो जाते है । इन तर्कों को झूठा साबित करने के पीछे भी कुछ नेता ही होते है, जो अपनी अच्छी छवि और जनहित की लगन के कारण जानता के दिलों पर राज करने लग जाते है।

ऐसा ही कुछ किया है, उड़ीसा के केंद्रपाड़ा के BJD सांसद बैजयंत पांडा ने। इन्होंने साबित किया है कि यदि हम देश का नमक खा रहे है तो हमे देश को भी कुछ देना चाहिए। दरअसल, बैजयंत पांडा संसद के शीतकालीन सत्र के न चलने से परेशान है। उन्होंने इस एवज में एक सराहनीय कदम उठाया है। पांडा ने निर्णय लिया है कि वे संसद के खराब हुए समय तक का अपना वेतन नही लेंगे।

इस बात की जानकारी पांडा ने ट्वीट करके दी। जिसे अब तक लगभग दो हजार से भी ज्यादा बार रिट्वीट किया जा चुका है। पांडा के अनुसार उन्होंने ऐसा अपनी अंतरात्मा के लगातार परेशान करने पर किया। उन्होंने संसद न चलने के विरोध में अपना वेतन वापस किया है। वही बैजयंत पांडा ऐसा लगभग 4-5 साल से करते आ रहे है। जब भी संसद की कार्रवाई नही चल पाती है।
गौरतलब है कि इस वर्ष के शीतकालीन सत्र में 2-3 बिल ही पास हो पाए और इसके अलावा संसद सत्र पूरी तरह बर्बाद हो गया है। यह सब कुछ नोटबंदी के फैसले पर संसद में हुए बवाल के कारण हुआ है, जिसका जिम्मेदार केंद्र की ओर से विपक्ष को ठहराया जा रहा है।
samacharvideo से जुडी अन्य खबरों के लिए आप हमसे facebook और twitter पर भी जुड़ सकते है)

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *