samacharvideo: आज हमारा देश 68वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। सबसे पहले आप सभी को भारत के गणतंत्र के मजबूत जोड़, आपसी भाईचारे, एकता और अखंडता के प्रतीक गणतंत्र दिवस की ढेरों बधाइयाँ। 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हुआ, लेकिन पूर्ण रूप से स्वतंत्र 26 जनवरी 1950 को हुआ। क्योंकि इसी दिन भारत के विद्वानों द्वारा निर्मित भारतीय संविधान लागू किया गया।

आइये जानते है गणतंत्र दिवस से जुड़े रोचक तथ्य और अनसुनी बातें…

  • हिंदुस्तान का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है,जिसे बाबा भीम राव अंबेडकर की अध्यक्षता में तैयार किया गया।
  • भारत के संविधान को तैयार करने में दो साल, ग्यारह महीने और अठारह दिन लगे थे।
  • 26 जनवरी 1929 को लाहौर में पंडित जवाहर लाल नेहरु ने तिरंगा फहराया और पूर्ण स्वराज की घोषणा की थी।
  • 1936 में फैजलपुर में कांग्रेस का सम्मेलन आयोजित किया गया, जिसमें संविधान सभा ने पहली बार संविधान निर्माण की मांग की।
  • आपको बता दें कि ये मांग उठने के करीब तेरह साल बाद 26 नवम्बर 1949 को संविधान के 15 अनुच्छेद लागू किए गए। 
  • इन अनुच्छेद में नागरिकता और अन्तरिम संसद भी शामिल थी और फिर 26 जनवरी 1950 को सम्पूर्ण संविधान लागू किया गया।
  • पूर्ण संविधान लागू करने से पहले 24 जनवरी 1950 को अन्तिम बैठक बुलाई गई, जिसमें डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद को भारत का राष्ट्रपति चुना गया।
  • 26 जनवरी को भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ.राजेंद्र प्रसाद ने गवर्नमेंट हाऊस में शपथ ली।
  • हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रपति तिरंगा फहराते हैं।
  • प्रधानमंत्री अमर जवान ज्योति पर उन शहीदों को श्रद्धाजंलि देते हैं, जिन्होंने देश की आजादी में बलिदान दिया।
  • गणतंत्र दिवस की पहली परेड 1955 को दिल्ली के राजपथ पर हुई थी।
  • पहले मुख्य अतिथि थे इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो।
  • भारतीय संविधान की दो प्रतियां जो हिन्दी और अंग्रेजी में हाथ से लिखी गई थी। 
  • भारतीय संविधान की हाथ से लिखी मूल प्रतियां आज भी संसद भवन के पुस्तकालय में सुरक्षित रखी हुई हैं।
  • 29 जनवरी को विजय चौक पर बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी का आयोजन किया जाता है जिसमें भारतीय सेना, 9 वायुसेना और नौसेना के बैंड हिस्सा लेते हैं। यह दिन गणतंत्र दिवस के समारोह के समापन के रूप में मनाया जाता है।
  • परेड में शामिल होने वाली टुकड़ी और झांकियों की रफ्तार 5 किमी/घंटा होती है ताकि सभी इसे बेहतर तरीके से देख सकें।
  • इस वर्ष पहली बार NSG के कंमोंडो भी गणतंत्र दिवस की परेड में शिरकत कर रहे है।
  • गणतंत्र दिवस की इस परेड में टैंक T90, आकाश मिसाइल, ब्रम्होस मिसाइल और अग्नि मिसाइल जैसी नयी तकनीक से युक्त दमदार ताकतों का प्रदर्शन भी किया जा रहा है।
  • हर वर्ष इस मौके पर एक विशेष अतिथि को आमंत्रित किया जाता है। इस वर्ष ,UAE के प्रिंस विशेष अतिथि के रूप में शामिल हो रहे है।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *