samacharvideo: भारत में महिलाये भी लगातार आगे बढ़ रही है। वे देश में ही नही, अब पूरे विश्व में भारत का नाम रोशन कर रही है। ऐसा ही एक नाम है ‘मैरी कॉम’, जिन्होंने ने 2012 के ओलिंपिक में क्वालीफाई करने के साथ साथ ब्रोज़ मैडल पर भी अपना कब्जा जमाया था। आइये जानते है ‘मैरी कॉम’ से जुड़ी कुछ खास और अनसुनी बातें…

यह भी पढ़े: B’Day Special: जब पहली बार 7 दिन के लिए ‘नितीश कुमार’ बने मुख्यमंत्री, जानें ऐसे ही कई रोचक किस्से

फिल्मों के ऐसे डायलॉग, जो आपको हमेशा करते है Motivate, भर देते है हिम्मत और नई ऊर्जा से !



यह भी पढ़े: Google पर सर्च करो ‘पप्पू’, आपको मिलेगा ये जवाब, जिसे देख दंग रह जाएंगे आप !

  • मैरी कॉम का पूरा नाम मांगते चुंगनेजंग मेरी कोम है।
  • जन्म: 1 मार्च 1983, कंगथेयी, मणिपुर
  • मैरी कॉम चार भाई बहनों में सबसे बड़ी है।
  • मैरी कॉम ने बचपन में कभी बॉक्सिंग नही की थी खैर, उन्हें एथलीट बनने का शौक जरूर था।
  • सन 1998 में बॉक्सर ‘डिंगको सिंह’ ने एशियन गेम्स में गोल्ड मैडल जीता, वे मणिपुर के थे, बस तब से ही मैरी कॉम ने ठान लिया की उन्हें भी ऐसा ही बनना है।
  • मेरी ने अपने माँ बाप को बिना बताये इसके लिए ट्रेनिंग शुरू कर दी।
  • वे अपने गाँव से इम्फाल गई और मणिपुर राज्य के बॉक्सिंग कोच एम् नरजीत सिंह से मिली और उन्हें ट्रेनिंग देने के लिए निवेदन किया।
  • वे इस खेल के प्रति बहुत भावुक थी, साथ वे एक जल्दी सिखने वाली विद्यार्थी थी।
  • ट्रेनिंग सेंटर से जब सब चले जाते थे, तब भी वे देर रात तक प्रैक्टिस करती रहती थी।
  • ट्रेनिंग सेंटर से जब सब चले जाते थे, तब भी वे देर रात तक प्रैक्टिस करती रहती थी।
  • बॉक्सिंग शुरू करने के बाद मेरी को पता था कि उनका परिवार उनके बॉक्सिंग में करियर बनाने के विचार को कभी नहीं मानेगा, जिस वजह से उन्होंने इस बात को अपने परिवार से छुपा कर रखा था। 1998 से 2000 तक वे अपने घर में बिना बताये इसकी ट्रेनिंग लेती रही।
  • 2000 में जब मेरी ने ‘वीमेन बॉक्सिंग चैम्पियनशीप, मणिपुर’ में जीत हासिल की, और इन्हें बॉक्सर का अवार्ड मिला, तो वहां के हर एक समाचार पत्र में उनकी जीत की बात छपी, तब उनके परिवार को भी उनके बॉक्सर होने का पता चला।
  • इस जीत के बाद उनके घर वालों ने भी उनकी इस जीत को सेलिब्रेट किया। इसके बाद मेरी ने पश्चिम बंगाल में आयोजित ‘वीमेन बॉक्सिंग चैम्पियनशीप’ में गोल्ड मैडल जीत, अपने राज्य का नाम ऊँचा किया। इसी के बाद से मैरी कॉम का बॉक्सिंग करियर शुरू हो गया।

      अवार्ड्स और सम्मान…

      1. सन 2003 में अर्जुन अवार्ड मिला।
      2. सन 2006 पद्म श्री अवार्ड मिला।
      3. सन 2007 में खेल के सबसे बड़े सम्मान ‘ राजीव गाँधी खेल रत्न’ के लिए नोमिनेट किया गया।
      4. सन 2007 में लिम्का बुक रिकॉर्ड द्वारा पीपल ऑफ़ दी इयर का सम्मान मिला।
      5. सन 2008 में CNN-IBN एवं रिलायंस इंडस्ट्री द्वारा ‘रियल हॉर्स अवार्ड’ से सम्मानित किया गया
      6. सन 2008 पेप्सी MTV यूथ आइकॉन
      7. सन 2008 में AIBA द्वारा ‘मैग्निफिसेंट मैरी’ अवार्ड।
      8. 2009 में राजीव गाँधी खेल रत्न दिया गया।
      9. सन 2010 में सहारा स्पोर्ट्स अवार्ड द्वारा स्पोर्ट्सवीमेन ऑफ़ दी इयर का अवार्ड दिया गया।
      10. सन 2013 में देश के तीसरे बड़े सम्मान पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

      आपको बता दे की मैरी कॉम की शादी भी हो चुकी है। सन 2005 में  ओन्लर से उनकी शादी हुई। उनके तीन लड़के भी है, जिसमे से दो जुड़वा है।
      वहीँ कुछ दिनों पहले मैरी कॉम पर एक बॉलीवुड फिल्म भी बनी जिसमे प्रियंका चोपड़ा ने मुख्य भीमिक निभायी थी।

      By admin

      Leave a Reply

      Your email address will not be published. Required fields are marked *